जनरल डब्बा

जो होता आ रहा है इसके मुसाफिरों के साथ (सौरभ के.स्वतंत्र)

50 Posts

80 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4168 postid : 28

बिहार में सी-कम्पनी का फिर खौफ!

  • SocialTwist Tell-a-Friend

  • बढ़ते अपराध को ले पुलिस के बजाये मीडिया पर बरसते नीतीश!
  • फिर पनप रहा है अपरहण उद्योग!

सुशासन बाबू के नाम से विख्यात नीतीश कुमार के २००४ में सत्ता में  आने के बाद बिहार को एक नयी उम्मीद की किरण दिखी. मसलन, अब बिहार से जंगल राज समाप्त हो रहा है..अपराध का ग्राफ गिर रहा है…वंचितों को न्याय मिल रहा है…इसी बेस पर सुशासन बाबू दूसरी पारी खेलने में सफल हुए..पर इन दिनों सूबे का आलम यह है कि सी-कम्पनी यानी कास्ट, क्राइम और करप्शन फिर सिर उठा रहा है..आये दिन हत्या, बलात्कार, भ्रष्टाचार के मामले सामने आ रहे हैं. मुख्यमंत्री  सूबे के सारे एस.पी. और डी.आई.जी. की मैराथन बैठक कर रहे हैं..पर अपहरण, बलात्कार, हत्या के मामले थम नहीं रहे.   मुख्यमंत्री पुलिस अधिकारियो की बैठक में किसी भी एस.पी. और डी.आई.जी को डांट पिलाने के बजाये मीडिया पर एकतरफा वार करते दिख रहे हैं. मुख्यमंत्री का मानना है कि मीडिया सिर्फ एकपक्षीय खबर दिखा रहा है..
                                            इस लिहाज से यह कहना सर्वथा उचित होगा कि सरकार अवसरवादी हो गयी है. मेरी तो सरकार को यही राय है कि उसे यह मान लेना चाहिए कि नीतीश कुमार को जो लोकप्रियता व हाइप मिला है उसके पीछे मीडिया का ही हाथ है..अब जब सरकार नाकाम होती दिख रही तो भी मीडिया से ऐसी उम्मीद का भ्रम पाले रखना निहायत अलोकतांत्रिक है. सच तो सच है..पर्दा क्यों..?

| NEXT



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (15 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Bindas lahri के द्वारा
October 22, 2011

Saurabh ji, Aap media wale Purvagrah se bache to loktantra ke sath nyay hoga. Ye kaha ka nyay hai ki aaplog puri khabar nahi dikhate?

Brijendra Singh के द्वारा
October 22, 2011

truth is truth.it is well known how cm of bihar utilize media for hype.

Bindas lahri के द्वारा
October 22, 2011

छद्म लेख. साैरभ जी से उम्मीद के िवपरीत

    Saurabh K.Swatantra के द्वारा
    October 22, 2011

    Aap to janab kuchh jyada hi /bindaas hain…Mujhse jyada ummid mat rakhiye..lekh ka antim line padhiye..Sach to sach hai..parda kyo? Lagta hai aap stereotype hain..mai jyada kya kahunga..aapne bahut kuchh kah diya kam shabdo me.

Bindas lahri के द्वारा
October 22, 2011

nitish ji ne bihar ke liye bahut kuchh kiya. Saurabh ji kam ude to behtar hoga.

    Saurabh K.Swatantra के द्वारा
    October 22, 2011

    Bindas ji, Nam bade par darshan chhote…kahan hain app…?aaj rom jal rha hai.Niro Basuri Baja Rha hai..Jara Bihar ki khabar dekhiye..apradh ab hype par hai…Mai nahi, khabar ud rhae hain.,.

anurag के द्वारा
October 22, 2011

Nice post…pol khol

abodhbaalak के द्वारा
October 21, 2011

भय्या विकास दर तो दिख रही है की देश में सबसे बढ़ कर है पर अगर इस तरह की चीज़ें भी बढ़ रही हैं तो फिर काहे का सुशासन? http://abodhbaalak.jagranjunction.com/

Abdul Rashid के द्वारा
October 21, 2011

सौरभ जी अभी तो कई परत खुलने बाक़ी है मुखौटा ke अन्दर बहुत कुछ छूपा है बेबाक राय बधाई हो दीपावली की हार्दिक सुभकामनाओ के साथ सप्रेम अब्दुल रशीद http://singrauli.jagranjunction.com


topic of the week



latest from jagran