जनरल डब्बा

जो होता आ रहा है इसके मुसाफिरों के साथ (सौरभ के.स्वतंत्र)

50 Posts

80 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4168 postid : 39

हमि न छोड़ब हो भैया छठ देई व्रतिया!

Posted On: 27 Oct, 2011 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

लोक आस्था का पर्व छठ काफी नजदीक है..दीपावली बीत गयी..भले ही कई घर अँधेरे में रहे हो, कई महिलाएं अपने ग़ुरबत को कोसती रही हो..पर छठ ऐसा पर्व है इससे हर तबके के लोगों में ऐसी ताकत और जूनून आ जाती है कि उसे छठ व्रत करने  से कोई रोक नहीं सकता. बिहार के एक लोक गीत की बानगी : बहिनी येसो के समय बड़ा बा महंगिया, छोड़ी देही अगे बहिनी छठी देई वरतिया…होई देहु महंगिया हो भइया, होई देहु ससतिया, हमि न छोड़ब छठि देई वरतिया, हुनकर देहल हो भइया.
चाहे  महंगाई हो या कोई विपदा, राजनीति हो या सरकारी तन्द्रा, छठ पर्व में ये अड़चन आने से रहे..फिलवक्त, बिहार में महंगाई अपने चरम पर है, घाट की दशा भी ख़राब है और बी.पी.एल. परिवारों को पिछले महीने से अनाज की आपूर्ति ही नहीं मिल रही. लिहाजा, लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है इसमें कोई शक नहीं. अनाज को ले डीलर सरकार पर और सरकार भारतीय खाद्य निगम पर दोषारोपण कर रही है और इस आरोप-प्रत्यारोप के खेल में पिस रही है आम जनता..मुझे लगता है कि केंद्र न सही पर राज्य सरकार को जाग जाना चाहिए और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को छठ व्रतियों की हरसंभव मदद करनी चाहिए. नीतीश जी को ये बताने की जरुरत नहीं कि उनपर भी छठ मैया का आशीर्वाद रहा है…अगर सरकार फिर भी सोयी रहती है तो बिहार की जो परंपरा रही है छठ में एक दूसरों को सहायता करने की वह किस दिन काम आएगी..और छठ मैया का आशीर्वाद लोगों पर है ही.
– सौरभ के.स्वतंत्र

| NEXT



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

7 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
November 7, 2011

सौरभ जी, नमस्कार! छठ व्रत की महिमा और समाज की दुर्दशा पर ससक्त लेख. बधाई!

Anurag के द्वारा
October 27, 2011

Nice post!

    Saurabh K.Swatantra के द्वारा
    October 27, 2011

    Many-many Thanx.


topic of the week



latest from jagran